ध्वनि प्रदूषण पर रोक लगाने के लिए मुंबई में हॉर्न व्रत

 04 Apr 2018  363
संवाददाता/in24 न्यूज़

मुंबई में ध्वनि प्रदूषण पर रोक लगाने के लिए शहर के परिवहन विभाग ने अब एक मुहीम छेड़ी है। इसके तहत विभाग मुंबई की सभी परिवहन क्षेत्र से जुड़े संगठनों से अपील कर रहा है, कि जितना संभव हो हॉर्न बजाने से बचने के लिए लोगों को प्रेरित करें। इस पहल को 'हॉर्न व्रत' नाम दिया गया है और लोगों को हॉर्न व्रत रखने यानी हॉर्न ना बजाने के लिए कहा जा रहा है।

 हॉर्न से होने वाले नुकसानों के बारे में बताने के लिए ऑटो रिक्शा में हजारों हॉर्न बांधकर यात्रा निकाली गई। इस ऑटो पर लिखा गया कि मुंबई के लोग एक घंटे में 1,80,00,000 बार हॉर्न बजाते हैं। इसके अलावा ऑटो पर हिंदी, अंग्रेजी और मराठी में संदेश लिखकर हॉर्न ना बजाने की अपील की गई। आपको बता दें कि सामान्य इंसान के लिए 20 से 40 डेसिबल की आवाज पर्याप्त होती है।

वहीँ, गाड़ियों में लगे हॉर्न से कम से कम 100 डेसिबल की आवाज निकलती है, ऐसे में यह आवाज इंसान के कान के लिए काफी हानिकारक है। शहरों में बढ़ता ध्वनि प्रदूषण बढ़ते रक्तचाप और ह्रदय रोगों के लिए भी जिम्मेदार है, इसी लिहाज से मुंबई पुलिस और आवाज फाउंडेशन ने एक कोशिश की है कि लोगों को इस बारे में जागरूक किया जाए।