किसने हैक की केंद्रीय गृह मंत्रालय की वेबसाइट ?

 12 Feb 2017  435

ब्यूरो रिपोर्ट / in24 न्यूज़

 भारत सरकार के गृहविभाग की वेबसाइट रविवार (12 फरवरी) को हैक हो गई। इस मामले में जांच के आदेश दे दिए गए हैं। विशेष सूत्रों के मुताबिक कंप्यूटर इमरजेंसी रेस्पॉन्स टीम इस मामले को बड़े बारीकी तरीके से देख रही हैं। नैशनल इन्फॉर्मेटिक्स सेंटर के अनुसार हैकिंग के बाद गृह मंत्रालय की वेबसाइट को ब्लॉक कर दिया गया है। आपको बता दें कि पिछले 4 वर्षों में केंद्र और राज्य के सरकारी विभागों की 700 से अधिक वेबसाइट्स हैक हो चुका है और साइबर क्राइम के इस मामले में 8,348 लोगों को गिरफ्तार भी किया जा चुका है।

इसके साथ ही आपको बता दें कि, हाल ही में कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी का ट्विटर अकाउंट हैक कर उनके और परिवार के बारे में आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया गया था। इसके बाद कांग्रेस का भी ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट हैक कर लिया गया था। यह काम Legion नाम के हैकर्स ग्रुप द्वारा किया गया था। कुछ दिनों बाद ही कुछ प्रभावशाली पत्रकारों के भी ट्विटर अकाउंट को इसी ग्रुप ने निशाना बनाया था। गौर करने वाली बात है कि इससे पहले पाकिस्तान से जुड़े कुछ संदिग्ध हैकरों ने नए साल यानी 1 जनवरी के दिन राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) की वेबसाइट को हैक कर लिया था और उस पर प्रधानमंत्री और भारत विरोधी आपत्तिजनक बातें पोस्ट की गयी थी।

अधिकारियों के अनुसार हैकिंग के प्रयास का खुलासा होने के बाद एनएसजी की वेबसाइट को उसके मुख्यालय से ब्लॉक कर दिया गया था। हैकरों ने वेबसाइट के होम पेज पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत विरोधी बातें पोस्ट कर दी थी। हैकर्स ने खुद को Alone Injector” बताया था। हैकर्स द्वारा एक एनएसजी की वेबसाइट पर एक फोटो भी डाली गई थी, जिसमें पुलिस को नागरिकों को पीटते हुए दिखाया गया था। इसके साथ ही उस पर लिखा था “फ्री कश्मीर- आजादी हमारा लक्ष्य है।” इस हैकिंग के पीछे किसी पाकिस्तान समूह का हाथ होने का शक था, क्योंकि हैकर्स ने पाक की इंटेलिजेंस एजेंसी ISI का जिक्र किया था और पाकिस्तानी समर्थन में नारे भी लगाए गए थे। अधिकारियों को हैकिंग की जानकारी मिलते ही वेबसाइट ऑफलाइन हो गई थी। कुलमिलाकर हैकर्स की इन गतिविधियों की जांच रही है लेकिन सवाल वही कि आखिर केंद्रीय गृह मंत्रालय की वेबसाइट को हैक किसने किया और इसके पीछे उसकी मंशा क्या थी ?