सांगली जिले के नाले में 19 कन्या भ्रूण

 07 Mar 2017  386
 

ब्यूरो रिपोर्ट / in 24 न्यूज़, सांगली

सांगली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नारे बेटी बचाओ, बेटी पढाओ पर जितना असर होना चाहिए उसमें गंभीरता पर कई सवाल उठने लगे हैं। महाराष्ट्र के सांगली जिले के एक गांव में रविवार के दिन नाले के पास 19 कन्या भ्रूण फेंके हुए पाए गए। पुलिस का कहना है कि अबॉर्शन के वक़्त एक गर्भवती महिला की मौत हो गई थी। इस मामले की तहकीकात करते हुए पुलिस जब म्हैसल गांव के एक नाले के पास पहुंची तो पुलिस ने देखा कि 19 कन्या भ्रूण फेंके हुए हैं।

एसपी दत्तात्रेय शिंदे का कहना है कि 26 वर्ष की एक गर्भवती महिला की २८ फरवरी को हुई मृत्यु के बाद इस पूरे रैकेट का पर्दाफाश हुआ था। महिला की मृत्यु डॉ बाबासाहेब खिद्र्पुर के प्राइवेट अस्पताल में हुई थी। बताया जा रहा है कि गांववालो को महिला की मृत्यु के बाद से अस्पताल पर शक हुआ, जिसके बाद लोगो ने पुलिस को इस बात की खबर दी और फिर इस पूरी कार्रवाई में पूरे रैकेट का पर्दाफाश हुआ।

शिंदे ने यह भी कहा कि आरोपी डॉक्टर अभी फरार है। उन्होंने बताया कि मृत महिला के पति प्रवीण जमदादे जबरदस्ती उसे अस्पताल गर्भपात करने के लिए ले गए क्योंकि वो तीसरी बार मां बन रही थी और इस बार भी उसके गर्भ में एक बच्ची थी। मृत महिला के पिता सुनील जाधव ने बताया कि उनके दामाद ने उनके लाख मना करने के बाद भी जबरदस्ती गर्भपात करवाया, जिसमें उनकी लाडली बेटी ने अपनी जान खो दी। पुलिस ने महिला के पति और फरार डॉक्टर पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।