देश भर में महाशिवरात्रि की धूम

 04 Mar 2019  33
संवाददाता/in24 न्यूज़ 
आज है देवाधिदेव महादेव का विशेष दिन यानि महापर्व शिवरात्रि है..इस दिन महादेव की प्रसन्नता के लिए विशेष पूजा की जाती है। शिवजी की कृपा से भक्तों को सभी कामों में सफलता मिलती है   ... आज के दिन देश के सभी शिवालयों में भक्तों की भीड़ उमड़ रही है...श्रद्धा और भक्ति से पूरा वातावरण सराबोर है. मुंबई के अलग अलग मंदिरों में भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए आज विशेष तरह की पूजाओं का आयोजन किया जारहा है.. आज के दिन लोग व्रत रखते हैं  शिवजी के भक्तों को आज बुरे विचारों से बचना चाहिए। बुरे विचार जैसे दूसरों को नुकसान पहुंचाने के लिए योजना बनाना, अधार्मिक काम करने के लिए सोचना, स्त्रियों के लिए गलत सोचना इत्यादि चीजें आज के दिन हमारे दिमाग में नहीं आनी चाहिए आदि। ऐसे विचारों से शिव पूजा में मन नहीं लग पाएगा और पूजा सफल नहीं होगी  ... कहा ये भी जाता है कि शिवलिंग पर हल्दी नहीं चढ़ानी चाहिए, हल्दी सिर्फ जलाधारी पर चढ़ा सकते हैं। हल्दी स्त्रियों से संबंधित सामग्री है। शिवलिंग पुरुष तत्व से संबंधित है और ये शिवजी का प्रतीक है। जलाधारी स्त्री तत्व से संबंधित है और ये माता पार्वती की प्रतीक है। इस कारण शिवलिंग पर नहीं, बल्कि जलाधारी पर हल्दी चढ़ानी चाहिए... कहा ये भी जाता है कि आज के दिन हमें क्रोध से बचना चाहिए क्योंकि क्रोध से मन की एकाग्रता और सोचने-समझने की शक्ति खत्म हो जाती है। शिवजी के कृपा पाने के लिए खुद को शांत रखना बहुत जरूरी है। क्रोध से मन अशांत हो जाता है और ऐसे में पूजा नहीं की जा सकती है। इसलिए क्रोध न करें।  ... शिवजी की पूजा में सोने, चांदी, पीतल, कांसे, तांबे या अष्टधातु के बर्तनों का उपयोग करना चाहिए। यहाँ ध्यान रखने की बात ये है कि लोहे, स्टील या एल्युमिनियम के बर्तन को पूजा के लिए उपयोग में ना लाएं  .. ये धातुएं शिवजी की पूजा में वर्जित की गई हैं...  तड़के सुबह से ही सभी शिव मंदिरों के कपाट भक्तों के लिए खोल दिए गए ताकि सभी शिव भक्त अच्छी तरह से अपने आराध्य भोलेनाथ की पूजा कर सकें. महाशिवरात्रि के दौरान पूरे दिन सभी शिव मंदिरों में भगवान भोलेनाथ का विशेष तौर पर जलाभिषेक कर उनका रुद्राभिषेक किया जा रहा है...  ऐसी मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव का विवाह हुआ था। शिवरात्रि पर भगवान शिव की विशेष पूजा अर्चना की जाती है। भक्त इस दिन महादेव को प्रसन्न करने के लिए कई चीजें अर्पित करते हैं और पूरे दिन उपवास रखते हैं   ... भगवान शिव को धतूरा अत्यंत प्रिय है इसलिए भगवान शिव की पूजा में धतूरा जरूर शामिल करना चाहिए।

धतूरे के साथ धतूरे का फूल भी भगवान शिव को अर्पित करना अच्छा होता है। महाशिवरात्रि पर शिवलिंग पर दूध या गंगाजल से भगवान शिव का अभिषेक करना बहुत उत्तम होता है। इसके साथ चंदन, बेलपत्र, बेर और गन्ने का रस, गेंहू, जौ, सफेद तिल चढ़ाने से अलग-अलग मनोकामनाएं पूरी होती हैं।