मूर्तितोड़ सियासत पर घमासान!

 07 Mar 2018  78
सौम्य सिंह/in24 न्यूज़  पूर्वोत्तर राज्यों में भाजपा के चुनाव जीतने के बाद अब एक नया विवाद शुरू हो गया है। हाल ही में कई प्रतिमाओं को तोड़े जाने की खबर आ रही है ,जैसे कि श्यामा प्रसाद मुख़र्जी की प्रतिमा हो या फिर लेनिन की। इस मसले पर राजनीतिक गलियारों में शोर उठना शुरू हो गया है। राज्यसभा में सभापति वेंकैया नायडू ने पूर्व सांसद के जितेंद्र कुमार जैन के निधन पर शोक व्यक्त किया और सदन में उन्हें श्रद्धांजलि दी गई. इसके बाद सांसदों ने सदन के पटल पर पेपर रखे। सभापति ने देश के अलग-अलग हिस्सों में मूर्तियां तोड़े जाने की घटना की निंदा की और इसे शर्मनाक बताया।  वेंकैया नायडू ने कहा कि मीडिया रिपोर्ट के जरिए उन्हें मूर्ति तोड़े जाने की घटना का पता चला है. उन्होंने कहा कि जो लोग भी ऐसा कर रहे हैं ये उनका पागलपन दर्शाता है। नायडू ने कहा कि ये घटनाएं तमिलनाडु, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल में हुई हैं और मुझे भरोसा है कि संबंधित एजेंसियां इस पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करेंगी. इसके बाद सदन में सांसदों का हंगामा शुरू हो गया। एक तरफ जहां उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू इस घटना को शर्मनाक बताने के साथ जांच की दलील दे रहे हैं, तो वहीँ दूसरी ओर सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने इस इस करतूत के लिए आरएसएस को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ की विरासत है जिसके बारे में हम सभी जानते हैं. गांधी की हत्या से लेकर बाबरी मस्जिद गिराने के मामले में ये होता आया है।