चीन के दौरे पर पीएम मोदी, भारत के लिए कितना लाभदायक ?

 27 Apr 2018  28

संवाददाता/in24 न्यूज़

दो दिवसीय दौरे पर चीन शहर पहुंचे पीएम मोदी शी जिनपिंग के बीच मुलाकात हुई। दोनों नेता गर्मजोशी से हाथ मिलाते दिखे और काफी देर तक हाथ पकड़े एक साथ खड़े आपस में बातचीत करते नजर आए। पीएम नरेंद्र मोदी और शी जिनपिंग ने हुबेई म्यूजियम में कल्चरल प्रोग्राम देखा और इसके बाद दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय वार्ता की।

दोनों देशों के बीच सीमाओं पर शांति के लिए इस पहल को बेहद अहम माना जा रहा है। इससे पहले चीन पहुंचने पर पीएम मोदी का पारंपरिक तरीके से जोरदार स्वागत किया गया। शी जिनपिंग से मुलाक़ात के बाद पीएम मोदी ने वुहान शहर में बने बांध की सरहाना की। उन्होंने कहा कि जब वे गुजरात के सीएम थे तब इस बांध के बारे में सुना था आपने जिस पैमाने पर और जिस गति के साथ इन्हें बनाया है,

उसने मुझे प्रभावित किया। इसलिए मैं स्टडी टूर पर आया हूं और एक दिन डैम पर बिताने का फैसला लिया। पीएम मोदी ने शी जिनपिंग से कहा, 'भारत और चीन दोनों की संस्कृतियों का संबंध नदियों से है। यदि हम हड़प्पा और मोहनजोदड़ों की प्राचीन सभ्यता की बात करें तो ये नदियों के किनारे पर ही बसी थीं।'

 गौरतलब है कि चीन दोकलाम विवाद में इस मुलाक़ात में जिक्र करेगा या नहीं यह तो वक़्त बतायेगा लेकिन चीन अपनी दगाबाजी के लिए मशहूर है और लगातार भारत को काफी मसलों पर तंग भी किया है। ऐसे में सवाल उठना लाजमी है कि पीएम मोदी का यह दौरा भारत के हित में होगा या फिर उन्हे मुंह की खानी पड़ेगी ?