राममंदिर पर शिवसेना का भाजपा पर हमला।

 10 Oct 2018  73
in24न्यूज़ मुम्बई।
 जितेन्द्र मिश्रा - केन्द्र और राज्य सरकार की सहयोगी दल शिवसेना ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर भारतीय जनता पार्टी पर जमकर हमला बोला जिसमे शिवसेना ने कहा कि राम के नाम पर सत्ता हासिल करने वाली भाजपा अयोध्या में भगवान श्री राम का भव्य मंदिर नहीं बनायेगी तो 2019 की चुनाव में देश की जनता भाजपा को सत्ता से बेदखल कर देगी। शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के जरिये केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला हैं जिसमें लिखा गया हैं कि यूपी विधानसभा चुनाव के दौरान जनता से मंदिर बनाने का वादा करने वाली भाजपा सत्ता में आने के बाद अपना वादा पूरा करने में नाकाम साबित हुई हैं, जिसका जबाब देश की जनता 2019 की लोकसभा चुनाव में जरूर देगी। संपादकीय के माध्यम से भाजपा पर हमला बोलने वाली शिवसेना ने राम मंदिर के मुख्य पुजारी के उस बयान का हवाला दिया जिसमे पुजारी ने पीएम मोदी पर आरोप लगाया था  कि 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने हर सभा में जय श्री राम के नारे लगाते थे लेकिन पीएम बनने के बाद राम मंदिर के निर्माण को लेकर चुप्पी साधे हुये है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ-साथ यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ पर भी शिवसेना ने हमला बोला जिसमे कहा कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान लोगों को लग रहा था कि भाजपा की सरकार बनने के बाद मंदिर के निर्माण में कोई कठिनाई नहीं आयेगी, लेकिन सत्तापर काबिज होने के बाद योगी सरकार ने उसे ही दबाना शुरू कर दिया हैं जो लोग मंदिर बनाने के लिये आवाज उठा रहे हैं. शिवसेना ने आश्चर्य व्यक्त करते हुये कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिये आंदोलन कर रहे हिंदू संगठन के कार्यकर्ता सरकार के इस भूमिका से काफी चिंतित हैं। शिवसेना ने भाजपा को आड़े हाथों लेते हुये कहा कि सर्वोच्च न्यायालय में मामला होने की बात करके भाजपा लोगो को गुमराह कर रही हैं। वही तीन तलाक और अनुसूचित जाती व जनजाति (अत्याचार निरोधक ) पर सर्वोच्च न्यायालय के आदेश को दरकिनार करके अध्यादेश जारी करने वाली भाजपा सरकार राममंदिर के निर्माण पर क्यों कानून नहीं बना रही हैं। बतादें कि यह पहला मौका नहीं जब केंद्र और राज्य की सरकार की सहयोगी दल शिवसेना ने भाजपा पर हमला बोला है 2014 की महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद दोनों पार्टियों के बीच बढे मनमुटाव के बाद से सरकार में रहते हुये शिवसेना लगातार भाजपा पर हमला बोलती आ रही हैं।