वरुण का हाथ राहुल के साथ

 07 Jan 2019  61

संवाददाता/in24 न्यूज़. 

भारतीय जनता पार्टी के युवा सांसद वरुण गांधी ने किसानों के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का साथ देते हुए कहा है कि  किसानों को केंद्र सरकार से मिलने वाले पैसे के आंकड़ें शर्मनाक हैं. गौरतलब है कि राहुल गांधी किसानों के मुद्दे को लेकर लगातार प्रधानमंत्री मोदी को घेरने में लगे हुए हैं. इसी बीच वरुण गांधी ने भाई राहुल का साथ देते हुए कहा कि 1952 से लेकर 2019 तक देश के सौ उद्योगपतियों को जितना पैसा दिया गया, उस रकम का केवल 17 प्रतिशत धन ही केंद्र और राज्य सरकारों से किसानों को आर्थिक सहायता राशि के रूप में अब तक मिला है. इससे ज्यादा शर्मनाक आंकड़ा कुछ नहीं हो सकता है.

वरुण गांधी ने ये बयान इंडिया डायलॉग कार्यक्रम को संबोधित करते हुए दिया. इसी के साथ वरुण गांधी ने देश के किसानों की मौजूदा हालत पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि देश में सरकार द्वारा किसानों के लिए चलाई गयी योजनाओं का लाभ उन्हें नहीं मिल रहा है. इतना ही नहीं किसानों को आर्थिक सहायता देने की बात पर उन्होंने कहा, ''देश में जब भी किसानों को आर्थिक सहायता देने की बात आती है तो हाहाकार मच जाता है. साथ ही पिछले कई वर्षों का आंकड़ा बताते हुए वरुण गांधी ने कहा कि 1952 से लेकर 2019 तक देश के केवल 100 उद्योगपतियों को जितना पैसा दिया गया, उसका मात्र 17 फीसद पैसा ही केंद्र और राज्य सरकारों ने अब तक किसानों को दिया है. वरुण के अनुसार देश में किसानों की मौजूदा हालत को देखते हुए सवाल खड़े किए. उन्होंने आंकड़े पेश करते हुए कहा कि इसे समझने के लिए मैं बताता हूं कि देश में होने वाले कुल फल उत्पादन का 56 प्रतिशत शुरुआती 96 घंटे में अच्छी कोल्ड स्टोरेज व्यवस्था के अभाव में सड़ जाता है. अकेले उत्तर प्रदेश में हर साल 2000 टन उत्पादन होता है और यह बीते 15 साल से हो रहा है. मगर राज्य में कुल कोल्ड स्टोरेज भंडारण क्षमता 70 से 100 टन है जिसका फायदा केवल बड़े किसान ही उठा पाते हैं.

वरुण गांधी के इस बयां से जाहिर है मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं.