आदित्य ठाकरे ने भरा नामांकन

 03 Oct 2019  53

संवाददाता/in24 न्यूज़।  
शिवसेना अब बदल रही है. यही कारण है कि ठाकरे परिवार से पहली बार कोई चुनावी मैदान में उतरा है. गौरतलब है कि महाराष्ट्र में ठाकरे परिवार के किसी सदस्य द्वारा चुनाव न लड़ने की परंपरा को तोड़ते हुए आदित्य ठाकरे आज नामांकन दाखिला किया. वर्ली सीट से चुनाव लड़ने के लिए नामांकन से पहले आदित्य ठाकरे ने रोड शो किया. रोड शो के दौरान शिवसेना कार्यकर्ता काफी जोश में दिखे. जगह-जगह फूल बरसाकर आदित्य ठाकरे का स्वागत किया गया. सीएम देवेंंद्र फडणवीस ने सुबह फोन कर आदित्य ठाकरे को आशीर्वाद दिया. वहीं शिवसेनाप्रमुख उद्धव ठाकरे ने आदित्य ठाकरे को समर्थन के लिए जनता का शुक्रिया किया. उन्होंने कहा, 'जनता की सेवा करने हमारे परिवार की परंपरा है. नई पीढ़ी, नई सोच के साथ आई है और मैं जनता के समर्थन के लिए उन्हें धन्यवाद देता हूं. मैं वचन देता हूं कि जनता जब भी बुलाएगी तब आदित्य हाजिर होंगे.' हालांकि इस दौरान एक सवाल के जवाब में उद्धव ने कहा कि वह चुनाव नहीं लड़ेंगे. बता दें कि दिवंगत बाल ठाकरे द्वारा 1966 में शिवसेना की स्थापना किए जाने के बाद से ठाकरे परिवार से किसी भी सदस्य ने कोई चुनाव नहीं लड़ा है या वे किसी भी संवैधानिक पद पर नहीं रहे है. उद्धव के चचेरे भाई और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे ने 2014 में राज्य में हुए विधानसभा चुनाव लड़ने की अपनी इच्छा जताई थी. हालांकि उन्होंने बाद में अपना मन बदल लिया था. ऐसे में ठाकरे परिवार से चुनाव लड़ने वाले आदित्य पहले सदस्य बन गए हैं. शिवसेना के सांसद और केंद्रीय मंत्री अरविन्द सावंत ने कहा है कि शिवसेना को उपमुख्यमंत्री की कुर्सी नहीं चाहिए , आदित्य ठाकरे मुख्यमंत्री बनने के काबिल हैं. दूसरी तरफ आदित्य ठाकरे ने कहा कि उपमुख्यमंत्री कॉमन मैन होता है और मैं भी कॉमन मैं हूं. यानी कुल मिलाकर इस बार का चुनाव वाकई दिलचस्प होनेवाला है.