हमारी नाकामयाबी कि हम पीड़िता को न्याय नहीं दे पाए- प्रियंका

 08 Dec 2019  38

संवाददाता/in24 न्यूज़। 

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद उत्तर प्रदेश में सियासी भूचाल आ गया है। सपा, बसपा और कांग्रेस सहित विपक्षी दलों ने योगी सरकार पर एकसुर से हमला बोल दिया है। शनिवार सुबह सपा प्रमुख अखिलेश यादव यूपी विधानसभा के सामने धरने पर बैठ गए और दो मिनट का मौन रखा।वहीं, लखनऊ दौरे पर आईं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा अचानक कार्यक्रम बदलकर उन्नाव पहुंच गईं, यहां उन्होंने पीड़िता के परिजनों से मुलाकात की। उधर, बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मुलाकात की है।पीड़िता की मौत के बाद प्रियंका ने ट्वीट किया, मैं ईश्वर से प्रार्थना करती हूं कि उन्नाव पीड़िता के परिवार को इस दुख की घड़ी में हिम्मत दे। यह हम सबकी नाकामयाबी है कि हम उसे न्याय नहीं दे पाए। सामाजिक तौर पर हम सब दोषी हैं लेकिन ये उत्तर प्रदेश में खोखली हो चुकी कानून व्यवस्था को भी दिखाता है।उन्नाव की पिछली घटना को ध्यान में रखते हुए सरकार को तत्काल पीड़िता को सुरक्षा क्यों नहीं दी गई? जिस अधिकारी ने उसका एफआईआर दर्ज करने से इनकार किया उस पर क्या कार्रवाई हुई? यूपी में रोज-रोज महिलाओं पर जो अत्याचार हो रहा है, उसको रोकने के लिए सरकार क्या कर रही है ?  उन्नाव पहुंचीं प्रियंका गांधी वाड्रा ने शनिवार को पीड़िता के परिवार से बंद कमरे में मुलाकात के बाद उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार को जमकर आडे़ हाथों लिया। उन्होंने कहा, यूपी में अपराधी बेखौफ घूम रहे हैं। परिवार ने आपबीती सुनाई।उनके साथ बहुत बुरा सुलूक हुआ। पूरे परिवार को एक साल तक प्रताड़ित किया गया। आरोपियों ने लड़की के पिता को घर में घुसकर बुरी तरह पीटा। पीड़िता के परिवार की महिलाओं को धमकाया गया। इस पर योगी सरकार की जवाबदेही तो बनती है। प्रशासन को बताना पड़ेगा कि ऐसा क्यों हो रहा है। छोटी सी बच्ची को धमकाया है कि तुम्हारा स्कूल से नाम कटवा देंगे। जून में उनकी खेती जला दी गई है। इस तरह से परिवार को परेशान किया जा रहा है।आरोपी गांव के प्रधान का बेटा है। कहा जा रहा है कि इनका परिवार भाजपा से जुड़ा है। हो सकता है कि इनकी रक्षा हो रही है, पहले भी ऐसा होता रहा है। अपराधी बचाए जाते रहे हैं। इसको राजनीतिक मामला न बनाते हुए प्रशासन और शासन को ध्यान देना होगा कि ऐसा क्यों हो रहा है।