स्कूल प्रिंसिपल ने की बच्चों के परिजनों की सहायता !

 12 Feb 2019  67
 
एक ऐसे स्कूल प्रिंसिपल की जिसकी दरियादिली को देख कर हर कोई हैरान है दरसअल मुंबई महानगरपालिका और उप नगर जिलाअधिकारी ने मिलकर अंधेरी पश्चिम वर्सोवा यारी रोड के पास रह रहे 500 लोगों के 150 झोपड़ों को तोड़ दिया। झोपड़ावासियो के अनुसार वे लोग पिछले 25 सालों से इस इलाके में रह रहे हैं और मनपा ने बिना किसी पूर्व सूचना या फिर अधिकृत नोटिस के ही इस तोड़क कार्रवाई को अंजाम दिया। मनपा की इस कार्रवाई के चलते तमाम झोपड़ावासी बेघर हो गए हैं, जिसके चलते वे अपने बच्चों के साथ करीब पिछले 5 से 6 दिनों से खुले आसमान के नीचे रहने को मजबूर हैं। इस झुग्गी इलाके में रहने वाली 3 वर्षीय लड़की अपनी माँ के साथ चिल्ड्रन वेलफेयर स्कूल में पहुंची जहाँ की वो छात्रा है। आशियाना टूट जाने की वजह से कथित बच्ची पिछले कई दिनों से स्कूल नहीं जा पा रही थी, जब प्राचार्य कौल ने उनसे स्कूल न आने का कारण पूछा तो उसने बताया कि उन लोगो के घर तोड़ दिए गए हैं जिसकी वजह से वहाँ के रहिवासी बेघर हो चुके है और कई दिनों से उन्होंने भोजन तक नहीं किया है। इस घटना को सुनकर प्रिंसिपल साहब का दिल भर आया और उन्होंने तुरंत बेघर हुए 500 लोगों के लिए भोजन पानी और रहने की व्यवस्था की। स्कूल प्रिंसिपल अजय कौल के इस कदम की जमकर सराहना हो रही है उनकी इस दरिया दिली को देखकर हर कोई उनका मुरीद हो गया है स्कूल के प्रिंसिपल अजय कौल ने आज एक बार फिर साबित कर दिया है कि आज भी हमारे देश हमारे, समाज में ऐसे लोग है जो सामाजिक भलाई के लिए हमेशा तत्पर रहते है