अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को युवराज सिंह ने कहा अलविदा

 10 Jun 2019  117

संवाददाता/in24 न्यूज़.  
क्रिकेट की दुनिया में अपने बल्लेबाजी से दुनिया का ध्यान अपनी तरफ खींचने वाले हरफनमौला खिलाडी युवराज सिंह ने आज अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेकर अलविदा कह दिया। गौरतलब है कि अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में 17 साल बिताने के बाद भारतीय क्रिकेट के बेहतरीन हरफनमौला खिलाड़ियों में से एक युवराज सिंह ने सोमवार को क्रिकेट के हर फॉर्मेट से संन्यास का ऐलान कर दिया है. युवराज सिंह ने भारत को अपने प्रदर्शन के दम पर एक या दो बार नहीं बल्कि 3-3 बार विश्वविजेता बनाया है. इस दौरान युवराज सिंह ने एक बेहतरीन रिकॉर्ड अपने नाम किया जो क्रिकेट के इतिहास में किसी भी खिलाड़ी के नाम नहीं हैं. युवराज सिंह ने 3 मौकों पर भारत को विश्व चैंपियन बनने में मदद की और तीनों ही मौकों पर युवराज सिंह मैन ऑफ द टूर्नामेंट भी बनें. युवराज सिंह  ने अंडर 19 विश्व कप में 8 मैच खेलकर 203 रन बनाए और 12 विकेट भी चटकाए जिसकी वजह से उन्हें मैन ऑफ द टूर्नामेंट के पुरस्कार से सम्मानित किया गया. पहली बार साल 2000 में अंडर-19 टीम को विश्वकप दिलाने के बाद युवराज सिंहने दूसरी बार साल 2007 में खेले गये पहले टी 20 विश्वकप के हीरो भी युवी बनें. इसी दौरान उन्होंने 6 गेंद पर 6 छक्के लगाने का रिकॉर्ड भी बनाया.इसके बाद भारत को साल 2011 में विश्वविजेता बनाने में युवराज का बड़ा योगदान रहा. युवराज सिंह ने 8 पारियों में 362 रन बनाए और 15 विकेट भी चटकाए. इस दौरान युवराज सिंह ने एक बार 5 विकेट चटकाने का काम भी किया. इस टूर्नामेंट में भी वह ‘मैन ऑफ द सीरीज’ रहे.
युवराज सिंह ने अपना अंतिम टेस्ट साल 2012 में खेला था. सीमित ओवरों के क्रिकेट में वह अंतिम बार 2017 में दिखे थे. युवराज सिंह ने साल 2000 में पहला वनडे, 2003 में पहला टेस्ट और 2007 में पहला टी-20 मैच खेला था.