टेस्ट में आर अश्विन सबसे बेस्ट !

 12 Feb 2017  384
ब्यूरो रिपोर्ट / in24 न्यूज़

भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने अपने टेस्ट क्रिकेट करियर में सबसे ज्यादा और सबसे तेज 250 विकेट लेने वाले बॉलर बन गए हैं। उन्होंने 45वें टेस्ट में एक और इतिहास रच दिया है। इससे पहले ये रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के लेजेंड बॉलर डेनिस लिली के नाम था। डेनिस लिली ने 48 टेस्ट मैचों में 250 विकेट लेकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था। अश्विन ने एकमात्र टेस्ट के चौथे दिन बांग्लादेशी कप्तान मुश्फिकुर रहीम को आउट करते ही ये उपलब्धि हासिल की। इससे पहले उन्होंने शाकिब अल हसन का विकेट लिया। भारत की ओर से सबसे तेज विकेट लेने के मामले में अश्विन दूसरे बॉलर हैं, उनसे पहले अनिल कुंबले ने 1999 में कारनामा किया था।
इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई में खेले गए पांचवें टेस्ट में अश्विन से उम्‍मीद थी कि वे कोई कारनामा जरूर कर दिखाएंगे और उसी तर्ज पर उन्होंने टेस्ट क्रिकेट की दुनिया में ये इतिहास रचा। चेन्‍नई टेस्‍ट में उन्‍हें लिली के रिकॉर्ड तक पहुंचने के लिए महज तीन विकेट की जरूरत थी। सीरीज के चार टेस्‍ट में तमिलनाडु का यह स्पिनर 27 विकेट अपने नाम कर चुका था। भारतीय पिचों पर आर अश्विन अपनी स्पिन से जिस तरह विरोधियों के खेमे में खलबली मचा देते हैं, उसकी तुलना में विदेशी पिचों पर उनका प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा है।  कुछ दिन पहले भारत के पूर्व स्पिनर मुरली कार्तिक ने ये सवाल उठाया था कि भारतीय पिचों या एशियाई मैदानों पर इस समय विकेटों का अंबार लगा रहे अश्विन क्या एशिया के बाहर भी इतने कामयाब हो पाएंगे ?
चूंकि ऑस्ट्रेलिया, साउथ अफ्रीका या इंग्लैंड में पिचें आमतौर पर तेज गेंदबाजों के लिए मददगार होती है और यहां स्पिनरों को उतना टर्न नहीं मिलता जितना भारत की पिचों पर मिलता है। फिलहाल अपनी विविधताओं और सटीकता से अश्विन विदेशी मैदानों पर भी यह चमत्कार दोहरा सकते हैं लेकिन भारत के पूर्व स्पिनर मुरली कार्तिक की राय में यह तो वक्त ही तय कर पायेगा कि अश्विन विदेशी सरजमीं पर यह सफलता दोहराने में सक्षम हो पाएंगे या नहीं ! आर अश्विन की चर्चा इस समय पूरे भारत वर्ष में हो रही है ऐसे में उनके पास कीर्तिमान स्थापित करने के लिए अभी और भी मौका है जिसमे वो कितना कामयाब होंगे ये तो आने वाला समय ही बताएगा।