भारतीय नौसेना को मिलेगी 'करंज' की ताकत 

 31 Jan 2018  199
 
 
 
 
सौम्य सिंह/in24 न्यूज़ 
 
भारतीय नौसेना की ताकत आईएनएस करंज के आने के बाद और भी बढ़ गई है। चीन से लगातार बढ़ रहे समुद्री खतरे पर लगाम कसने के लिए आईएनएस करंज कारगर साबित होगी। इस अवसर पर एडमिरल लांबा ने कहा, ‘नौसेना के बेड़े में शामिल किये जाने से पहले एक वर्ष तक यह (पनडुब्बी) कड़े परीक्षणों से गुजरेगी।’
 
एमडीएल कुल छह पनडुब्बियों का निर्माण करेगा और इन पनडुब्बियों का निर्माण फ्रांस की बड़ी जहाज निर्माता कंपनी नेवल ग्रुप के साथ मिलकर किया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले ही महीने स्कॉर्पीन श्रेणी की पहली पनडुब्बी कलवरी को नौसैनिक बेड़े में शामिल किया था।
 
आपको बता दें कि 67.5 मीटर लंबी 12.3 मीटर ऊंची और 1565 टन वजन वाली इस पनडुब्बी में ऑक्सीजन भी बनाया जा सकता है. युद्ध की स्थिति में यह दुश्मन के क्षेत्र से चकमा देकर निकलने में सक्षम है। करंज किसी भी रडार के पकड़ में नहीं आएगी साथ ही दुश्मनों के जहाज को तलाश कर उस पर सटीक निशाना लगाने में भी सक्षम है।