लड़ाकू विमान तेजस का सफलता पूर्वक परिक्षण

 14 May 2017  518
ब्यूरो रिपोर्ट/in24 न्यूज़, मुंबई

नई दिल्ली में भारत का लड़ाकू विमान "तेजस" आज हवा में मिसाइल को छोड़ने की सफलता पूर्वक जांच की गई। दरअसल, हवा में मार करने वाली मिसाइल का सफलता पूर्वक परिक्षण किया गया। इस परीक्षण में निशाना लगाने की सफलता से तेजस को अधिक शक्तिशाली बनाने का मार्ग पूरा हो गया है।

मिसाइल का परिक्षण ओडिसा के चांदीपुर परिक्षण केंद्र में किया गया।  रक्षा मंत्रालय ने कहा कि परिक्षण का उद्देश्य तेजस के ऐयरोनिक्स,फायर कॉन्ट्रोल रडार , लॉंच और मिसाइल शास्त्र ,प्रणाली के एकीकरण के प्रदर्शन को आंकना था। तेजस अपने सभी मानको पर खरा उतरा साथ ही उसका हल्का वजन और उसकी तेज रफ़्तार भारत के हलके लड़ाकू विमान की खासियत है।

   'तेजस विमान' की खासियत 

  1. फाइटर जेट तेजस वजन से हल्का और तेज रफ़्तार वाला है।
  2. २,२०० की.मी प्रति घंटे की रफ़्तार है, तक़रीबन ५० हजार फिट ऊंचाई पर उड़ने में सक्षम है।
  3. इसका कुल वजन ६,५०० किलोग्राम है, हथीयारों से पूरी तरह लैस होने के बाद  तक़रीबन १० हजार किलोग्राम हो जाता है।
  4. इस लड़ाकू विमान में एक इंजन है , और एक पाइलट बैठ सकता है।
  5. प्लेन के निचले हिस्से में ९ हथियार लोड और फायर किये जा सकते है।
  6. प्लेन में राकेट और बम भी लोड किये जा सकते है।
  7. प्लेन में हवा से हवा में मारने वाली मिसाइल, हवा से धरती पर मारने वाली मिसाइल हवा से पानी में मारने वाली मिसाइल , साथ ही दूसरे लड़ाकू विमानों को मरने वाली मिसाइल का इत्सेमाल किया जा सकता है।
  8. तेजस आवाज की दोगुनी उड़न भर सकता है।
  9. ईंधन खत्म होने पर हवा में भी इसमें ईंधन भर सकते है।
साथ ही इसमें अमेरिका कंपनी जीई का इंजन लगया है,जिसके वजसे वजसे ये ताकतवर बन चूका है। इस वजह से तेजस ने चीनी लड़ाकू विमान को ताकत के मामले में पीछे छोड़ दिया है Read Technology News in Hindi.