भारत ने किया पाकिस्तान और चीन के बीच शुरू होने वाली बस सेवा का विरोध

 01 Nov 2018  25

संवाददाता/in24 न्यूज़.

भारत और पाकिस्तान का रिश्ता जगजाहिर है. यही कारण है कि पाकिस्तान और चीन के बीच शुरू होनेवाली बस सेवा का भारत ने पुरज़ोर विरोध किया है, क्योंकि यह सेवा पकिस्तान अधिकृत कश्मीर (इकोनॉमिक कॉरिडोर (सीपीईसी) से गुजरने जा रही है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि चीन और पकिस्तान के बीच शुरू होने वाली बस सेवा भारत की संप्रभुता (सॉवेरीनटी) और क्षेत्रीय अखंडता का उल्लंघन है. यह बस सेवा लाहौर से चीन के काशगर तक 13 नवंबर से शुरू की जा रही है. इस नई बस सर्विस को पाकिस्तान और चीन के बीच संबंधों को बढ़ाने के एक उदाहरण के रूप में देखा जा रहा है.  कुमार के अनुसार यह 1963 का तथाकथित चीन-पाकिस्तान सीमा समझौता अवैध और अमान्य है और भारत सरकार ने इसे कभी मान्यता नहीं दी. अगर पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर से कोई बस सेवा शुरू होगी तो यह भारत की संप्रभुता का उल्लंघन होगा.