चीनी हैकर्स ने लगाई भारत के ग्रिड में सेंध

 07 Apr 2022  188

संवाददाता/in24 न्यूज़.
चीन ने अक्सर भारत को परेशान करने की कोशिश की है. चीनी हैकर्स द्वारा भारत के ग्रिड में सेंध लगाने की खबर है. बताया जा रहा है कि चीनी हैकर्स ने ग्रिड की कई महत्वपूर्ण जानकारियां चुरा ली हैं. दरअसल, खुफिया फर्म रिकॉर्डेड फ्यूचर इंक ने एक रिपोर्ट प्रकाशित की है. जिसमें कहा गया है कि संदिग्ध राज्य प्रायोजित चीनी हैकरों ने हाल के महीनों में एक स्पष्ट साइबर-जासूसी अभियान के तहत भारत में बिजली क्षेत्र को निशाना बनाया है. रिपोर्ट में कहा गया है कि हैकर्स ने उत्तर भारत में कम से कम सात लोड डिस्पैच सेंटर पर ध्यान केंद्रित किया, जो लद्दाख में विवादित भारत-चीन सीमा के पास स्थित क्षेत्रों में ग्रिड नियंत्रण और बिजली के फैलाव के लिए वास्तविक समय के संचालन के लिए जिम्मेदार हैं. इस रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि लोड प्रेषण केंद्रों में से एक को पहले एक अन्य हैकिंग समूह RedEcho ने टारगेट किया था, रिकॉर्डेड फ्यूचर ने कहा है कि एक हैकिंग समूह के साथ मजबूत ओवरलैप साझा करता है, जिसे यूएस ने चीनी सरकार से जोड़ा है. रिकॉर्डेड फ्यूचर के मुताबिक, TAG-38 नामक हैकिंग समूह ने शैडोपैड नामक एक प्रकार के सॉफ़्टवेयर का उपयोग किया है, जो पहले चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी और राज्य सुरक्षा मंत्रालय से जुड़ा है. शोधकर्ताओं ने पीड़ितों की पहचान नाम से नहीं की है. रिकॉर्डेड फ्यूचर के वरिष्ठ प्रबंधक जोनाथन कोंड्रा ने कहा कि हमलावरों ने जिस तरह से घुसपैठ करने के लिए इस्तेमाल किया (चीजों के उपकरणों और कैमरों के समझौता किए गए इंटरनेट का उपयोग करना) असामान्य था. उन्होंने कहा कि घुसपैठ शुरू करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरण दक्षिण कोरिया और ताइवान में आधारित थे. उधर चीनी विदेश मंत्रालय ने प्रेस समय के अनुसार टिप्पणी के अनुरोध का जवाब नहीं दिया. बीजिंग ने लगातार दुर्भावनापूर्ण साइबर गतिविधि में शामिल होने से इनकार किया है. बता दें कि चीनी हैकर्स पर लगातार आरोप लगते रहे हैं.