जाति प्रमाण पत्र मामले में समीर वानखेड़े को क्लीन चिट

 14 Aug 2022  53

संवाददाता/in24 न्यूज़.
जाति को लेकर सालभर से चल रहे विवाद को खत्म करते हुए कास्ट स्क्रूटनी कमेटी ने नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) के पूर्व जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े (Sameer Wankhede) को क्लीन चिट दे दी है। कमेटी ने समीर वानखेड़े के जाति प्रमाण पत्र को बरकरार रखा है। इसके बाद समीर वानखेड़े ने कहा कि उनके द्वारा सरकारी नौकरी पाने के दौरान जमा किए गए सभी दस्तावेज वैध थे। इतना ही नहीं उन्होंने यह भी कहा कि वे और उसके पिता अनुसूचित जाति महार समुदाय से हैं। दरअसल, समीर वानखेड़े के पक्ष में फैसला सुनाते हुए कास्ट स्क्रूटनी कमेटी ने 91 पेज के आदेश में उस दलील को खारिज कर दिया, जिसमें कहा गया था कि वानखेड़े जन्म से मुसलमान हैं। इसके बाद एक न्यूज़ एजेंसी ने वानखेड़े के हवाले से बताया कि उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में जाति जांच समिति ने मेरे खिलाफ दर्ज शिकायतों को खत्म कर दिया है। हमारे द्वारा जमा किए गए सभी तथ्यात्मक दस्तावेज वैध हैं। उन्होंने यह भी कहा कि वे और उनके पिता से महार समुदाय से हैं। एक अधिकारी के मुताबिक शुक्रवार को महाराष्ट्र सरकार के सामाजिक न्याय विभाग द्वारा क्लीन चिट का आदेश जारी किया गया था। आदेश में कहा गया है कि वानखेड़े जन्म से मुसलमान नहीं थे। इतना ही नहीं यह भी साबित नहीं होता है कि वानखेड़े और उनके पिता ने इस्लाम धर्म अपना लिया था। बता दें कि समीर वानखेड़े हाईप्रोफाइल केस के कारण सुर्ख़ियों में आये थे।