महिला को सरेआम निर्वस्त्र करके मारा

 02 Dec 2020  33

संवाददाता/in24 न्यूज़.
सुरक्षा और सम्मान के लिए आज भी महिलाओं को संघर्ष करना पड़ रहा है. यही कारण है कि उनके अत्याचार और शोषण की खबरें लगभग रोज़ आती रहती हैं. अब मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ जिले में एक महिला को सरे राह पीटा गया और उसके कपड़े तक उतारे गए। पुलिस ने इसे आपसी मारपीट का मामला बताते हुए 5 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें चार महिलाएं है। इस मारपीट का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जानकारी के अनुसार, कुंडेश्वर थाना क्षेत्र में मंगलवार को एक महिला को सरेराह पीटा गया। महिला को नग्न करने की कोशिश हुई, उसके कपड़े तक उतार दिए गए। कोतवाली थाने के प्रभारी सुनील शर्मा के अनुसार यह मारपीट का मामला है, इस मामले में सभी अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया गया है। घटना के बारे में बताया गया कि कुंडेश्वर में एक गरीब मज़दूर महिला के साथ ये बदसलूकी हुई है। सड़क पर ही महिला के कपड़े फाड़े गए और लगभग उसे निर्वस्त्र कर दिया गया। पूरी घटना के लिए मोनू रजक नाम के शख्स को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। माना जाता है कि उसी के कहने पर महिला के साथ बुरा बर्ताव शुरू हुआ। हैरान करने वाली बात ये कि सड़क पर खड़ी अच्छी खासी भीड़ होने के बावजूद किसी ने महिला को बचाने की जहमत नहीं उठाई। शर्म की बात ये कि कई लोग महिला का वीडियो बनाते नजर आए। फिर बाद में इसी वीडियो को वायरल कर दिया गया। मामले में पुलिस ने तत्परता से काम करते हुए सभी पांचों आरोपियों को धर दबोचा है। सोशल मीडिया पर वायरल इस वीडियो को लेकर लोग हैरानी जता रहे हैं कि आखिर महिला को बचाने के लिए कोई सामने क्यों नहीं आया? मंगलवार सुबह की इस घटना ने सूबे में महिला सुरक्षा की कलई खोल कर रख दी है। ताजा घटना में महिलाओं ने ही मिलकर एक अबला को बेईज्जत करने की कोशिश की। इस दौरान पीड़ित महिला ने खुद को बचाने की पूरी कोशिश की। पीड़िता के न सिर्फ कपड़े फाड़े गए बल्कि बाल पकड़कर घसीटते हुए उसे बेरहमी से मारा भी गया। घटना के बारे में बताया जाता है कि मुख्य आरोपी मोनू रजक ने खुद महिला के प्राइवेट पार्ट में मिर्ची डालने की कोशिश की। हालांकि किसी तरह महिला ने खुद को बचाया। फिलहाल महिला पुलिस अभिरक्षा में है। वहीं मामला जिले के आलाधिकारियों के संज्ञान में है। पुलिस इस मामले में सख्त कार्रवाई का भरोसा दिला रही है। जानकारी के मुताबिक इससे पहले पीड़ित महिला और उसके पति ने मिलकर मुख्य आरोपी मोनू रजक के परिवार के साथ मारपीट की थी। इस बारे में पुलिस में बकायदा शिकायत दर्ज है। घटना से आक्रोशित मोनू रजक और उसके परिवार ने महिला से अगले दिन ही बदला लेने की ठानी। पीड़ित महिला जब मजदूरी के लिए निकल रही थी तभी उसे कुंडेश्वर स्टैंड के पास मोनू रजक ने रोक लिया। इसके परिवार के साथ मिलकर महिला को बेईज्जत किया गया। ऐसे में समझा जा सकता है कि आज भी महिलाओं के प्रति समाज का एक वर्ग किस कदर गैरजिम्मेदाराना हरकत करता नज़र आ रहा है.