पीएम मोदी के सुझाव पर 11 से 14 अप्रैल तक टीका उत्सव का आयोजन

 11 Apr 2021  173

संवाददाता/in24 न्यूज़.
बढ़ती कोरोना महामारी के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सुझाव पर देश में 11 अप्रैल से 14 अप्रैल तक ‘टीका उत्सव’ का आयोजन किया जा रहा है। इसका उद्देश्य कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में ज्यादा संख्या में योग्य नागरिकों का वैक्सीनेशन करना है। देश में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। बीते 24 घंटे में पूरे देश से कोरोना के 1,52,879 नए मामले सामने आए हैं। इसी को देखते हुए वैक्सीनेशन प्रोग्राम में तेजी लाने के लिए कई प्रयास किए जा रहे हैं, जिनमें से एक ‘टीका उत्सव’ है। बड़े पैमाने पर लोगों को वैक्सीन लगाने के लिए चार दिवसीय ये टीका उत्सव 14 अप्रैल तक चलेगा। गौरतलब है कि 14 अप्रैल को संविधान निर्माता डॉ. भीमराव आंबेडकर की जयंती भी है। पीएम मोदी ने रविवार को टि्वट कर लोगों से कहा कि आज से हम सभी, देशभर में टीका उत्सव की शुरुआत कर रहे हैं। कोरोना के खिलाफ लड़ाई के इस चरण में देशवासियों से मेरे चार आग्रह हैं। पीएम मोदी ने नमो ऐप पर अपने चारों आग्रह के बारे में विस्तार से लिखा है। उन्होंने कहा है कि आज 11 अप्रैल यानी ज्योतिबा फुले जयंती से हम देशवासी टीका उत्सव की शुरुआत कर रहे हैं। ये टीका उत्सव 14 अप्रैल यानी बाबा साहेब आंबेडकर जयंती तक चलेगा। ये उत्सव, एक प्रकार से कोरोना के खिलाफ दूसरी बड़ी जंग की शुरुआत है। इसमें हमें व्यक्तिगत साफ सफाई के साथ ही सामाजिक साफ सफाई पर विशेष बल देना है। उन्होंने कहा कि हमें ये चार बातें, जरूर याद रखनी है। प्रत्येक व्यक्ति एक व्यक्ति को टीका लगवाये, यानी जो लोग कम पढ़े-लिखे हैं, बुजुर्ग हैं, जो स्वयं जाकर टीका नहीं लगवा सकते, उनकी मदद करें। प्रत्येक व्यक्ति एक व्यक्ति की उपचार में मदद करे। यानि जिन लोगों के पास उतने साधन नहीं हैं, जिन्हें जानकारी भी कम है, उनकी कोरोना के इलाज में सहायता करें। प्रत्येक व्यक्ति एक व्यक्ति को सुरक्षित बनाये, यानि मैं स्वयं भी मास्क पहनूं और इस तरह स्वयं को भी बचाऊं और दूसरों को भी बचाऊं, इस पर बल देना है। मोदी ने कहा कि चौथी अहम बात, किसी को कोरोना होने की स्थिति में माइक्रो कन्टेनमेंट जोन बनाने का नेतृत्व समाज के लोग करें। जहां पर एक भी कोरोना का पॉजिटिव केस आया है, वहां परिवार के लोग, समाज के लोग माइक्रो कन्टेनमेंट जोन बनाएं। भारत जैसे सघन जनसंख्या वाले हमारे देश में कोरोना के खिलाफ लड़ाई का एक महत्वपूर्ण तरीका माइक्रो कन्टेनमेंट जोन भी है। उन्होंने कहा, “एक भी पॉजिटिव केस आने पर हम सभी का जागरूक रहना, बाकी लोगों की भी टेस्टिंग कराना बहुत आवश्यक है। इसके साथ ही जो टीका लगवाने का अधिकारी है, उसे टीका लगे, इसका पूरा प्रयास समाज को भी करना है और प्रशासन को भी। एक भी वैक्सीन का नुकसान ना हो, हमें ये सुनिश्चित करना है। हमें जीरो वैक्सीन वेस्ट की तरफ बढ़ना है। इस दौरान हमें देश की वैक्सीनेशन क्षमता के ऑप्टिमम यूटिलाइजेशन की तरफ बढ़ना है। ये भी हमारी कपैसिटी बढ़ाने का ही एक तरीका है। पीएम मोदी के मुताबिक़ हमारी सफलता इस बात से तय होगी कि माइक्रो कन्टेनमेंट जोन के प्रति कितनी जागरूकता हम लोगों में है। हमारी सफलता इस बात से तय होगी कि जब जरूरत न हो, तब हम घर से बाहर न निकलें। हमारी सफलता इस बात पर तय होगी कि जो टीका लगवाने का अधिकारी है, उसे टीका लगे। हमारी सफलता इस बात पर तय होगी कि हम मास्क पहनने और अन्य नियमों का किस तरह पालन करते हैं। उन्होंने कहा कि इन चार दिनो में व्यक्तिगत स्तर पर, समाज के स्तर पर और प्रशासन के स्तर पर हमें अपने-अपने लक्ष्य बनाने हैं, उन्हें प्राप्त करने के लिए पूरा प्रयास करना है। मुझे पूरा विश्वास है, इसी तरह जनभागीदारी से, जागरूक रहते हुए, अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए, हम एक बार फिर कोरोना को नियंत्रित करने में सफल होंगे। याद रखिए- दवाई भी, कड़ाई भी। गौरतलब है कि कोरोना की तेजी से बढ़ती संख्या ने देश  चिंतित कर दिया है।