अविश्वास प्रस्ताव पर मोदी सरकार की होगी अग्नि परीक्षा

 19 Jul 2018  80
लोकसभा में कांग्रेस और टीडीपी के अविश्वास प्रस्ताव को स्वीकार किए जाने के बाद यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी ने कहा 'की किसने कहा है कि हमारे पास संख्या बल नहीं है? 20 जुलाई से विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा शुरू होगी. माना जा रहा है कि विपक्ष के पास संख्याबल की कमी है. लेकिन सोनिया गांधी ने दावा किया है कि उनके पास संख्याबल है. मोदी सरकार को अपने चार साल के कार्यकाल में पहली बार अग्निपरीक्षा से गुजरना पड़ रहा है. सत्तापक्ष और विपक्ष दोनों अपने खेमे को मजबूत करने में जुट गए हैं. पीएम मोदी जहां अपने सहयोगी दलों को साधने में जुटे हैं. वहीं, टीडीपी सहित कांग्रेस विपक्षी दलों को अपने साथ एकजुट करने में लगी है 545 सदस्यों वाली लोकसभा में मौजूदा समय में 532 सांसद हैं. यानी बीजेपी को बहुमत हासिल करने के लिए महज 267 सांसद चाहिए. लोकसभा अध्यक्ष को हटाकर बीजेपी के पास अभी 273 सदस्य हैं. इसके बावजूद मोदी सरकार किसी तरह का जोखिम उठाने के मूड में नहीं है. इसीलिए सहयोगी दलों के साथ भी बीजेपी बातचीत कर के उन्हें साधने में जुटी है शिवसेना ने भी सरकार का साथ देने की बात कही है. पार्टी प्रवक्ता संजय राउत ने बुधवार को कहा था कि हमारी कोई मजबूरी नहीं है इसलिए हम सरकार के साथ रहेंगे। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से बात की. इसके बाद शिवसेना ने अपने सांसदों को लोकसभा में उपस्थित रहने के लिए व्हिप जारी कर दिया है