दूल्हे के माता पिता को कोरोना हुआ तो ऑनलाइन करवाई शादी

 02 Jul 2020  62

संवाददाता/in24 न्यूज़.
शादी से पहले पता चला कि दूल्हे के माता-पिता कोरोना की चपेट में हैं तो शादी का पूरा आयोजन टलकर ऑनलाइन शिफ्ट होगा. कोरोना संकट के दौरान कई विशेष कार्यक्रमों को लोगों ने टालना ही बेहतर समझा ताकि जानलेवा कोरोना से सुरक्षित रहा जा सके. मगर एक शादी में कोरोना संकट के कारण ऑनलाइन रस्म निभाए गए. गौरतलब है कि नवी मुंबई में रहने वाली हर्षिता ने मुंबई में ही रहने वाले मोहित से ऑनलाइन शादी की। इस शादी में चार सौ मेहमान ऑनलाइन शामिल हुए। इस शादी की सभी रस्में उदयपुर से ऑनलाइन पूरी की गईं।  दरअसल, एक दिन पहले ही दूल्हे के माता-पिता को कोरोना पॉजिटिव होने का पता चला, जिसके बाद वर-वधू पक्ष के सामने शादी को टालने के अलावा और कोई रास्ता नहीं था। प्रशासन ने इस शादी के लिए अनुमति नहीं दी थी लेकिन कोरोना पीड़ित वर के माता-पिता ने शादी तय तारीख पर ही करने का सुझाव दिया। इस उलझन से निकलने के लिए पेशे से डॉक्टर वधू के पिता ने ऑनलाइन माध्यम से शादी करवाने का इंतजाम किया। खबर है कि इस कठिन घड़ी में परिवार ने शादी को ऑनलाइन तरीके से करने पर सहमति जताई। उन्होंने बताया कि शादी के लिए 40 लोगों के लिए मुंबई में हॉल बुक किया गया था लेकिन दूल्हे के माता-पिता के कोरोना संक्रमित होने के बाद दोनों परिवार वालों ने ऑनलाइन माध्यम से शादी का मन बनाया। सलील लोधी ने बताया कि शादी पूरे राजस्थानी परंपरा के अनुसार संपन्न हुई। ऑनलाइन शादी करवाने वाले उदयपुर के पंडित दिनेश शास्त्री बताते हैं कि पहले के जमाने में भी जब लोग अपरिहार्य कारणों के कारण विवाह में शामिल नहीं हो पाते थे, तो दूल्हे के प्रतीक स्वरूप खड़ग, तलवार या छड़ी को भिजवाया जाता था जिसके साथ दुल्हन सात फेरे लेती थी। सदियों पुरानी इस मान्य परंपरा को इंटरनेट युग में कोठारी परिवार व सिंघवी परिवार ने फिर से पुनर्जीवित किया और ऑनलाइन माध्यम से रीति रिवाज पूरे किए गए। यानी माहौल चाहे कोई भी हो बस उसके लिए रास्ता निकालने की ज़रूरत है, मंज़िल मिल ही जाती है.