महिला टीम की जीत पर सचिन, विराट, सहवाग समेत क्रिकेटर्स ने दी बधाई

 21 Jul 2017  242

आज से ठीक 12 साल पहले विश्वकप के फाइनल में भारत को हराकर ऑस्ट्रेलिया ने करोड़ों हिन्दुस्तानियों का दिल तोड़ दिया था। लेकिन इस बार विश्वकप में भारत की शेरनियों ने ऑस्ट्रेलियाई टीम को 36 रनों से हराकर फाइनल में जगह बना ली है। इस मैच में भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया है। फाइनल में उसका मुकाबला रविवार को लाड्र्स में घरेलू टीम इंग्लैंड से होगा। ऑस्ट्रेलिया को जीतने के लिए 282 रन बनाने थे लेकिन टीम 245 रनों पर ही सिमट गई।

 हरमनप्रीत कौर की धमाकेदार (171*) पारी की बदौलत भारतीय टीम ने 281 रन बनाए थे। इस पारी में उन्होंने 7 छक्के और 20 चौके जमाए।हरमन की इस पारी की मदद से बारिश के कारण 42 ओवरों के कर दिये गये मैच में भारत ने चार विकेट पर 281 रन बनाये। हरमनप्रीत ने शुरू में क्रीज पर पांव जमाने में समय लगाया।  उन्होंने 100 से 150 रन तक पहुंचने में उन्होंने केवल 17 गेंदें खेली। पारी के आखिरी ओवरों में तो उनके बल्ले से केवल चौके और छक्के निकल रहे थे। आस्ट्रेलिया के सामने बड़े लक्ष्य का दबाव था और इसका असर शुरू में ही उसकी बल्लेबाजों पर दिखा. भारतीयों की कसी हुई गेंदबाजी के सामने उसने आठवें ओवर तक ४ विकेट गवा चुके थे।
बारिश से प्रभावित होने के कारण यह मैच 3 घंटे से ज्यादा की देरी से शुरू हुआ था जिसके कारन यह मैच ४२-४२ ओवर का हो गया। भारत के २ विकेट जाने के बाद टीम की कप्तान मिताली राज का साथ निभाने हरमनप्रीत कौर क्रीज पर आईं। लेकिन मिताली राज (36) बीम्स की बॉल पर बोल्ड हो गईं।  दोनों ने मिलकर संभलकर पारी को आगे बढ़ाया। 25वें ओवर में भारत ने अभी 100 रन ही पूरे किए थे कि मिताली राज (36) बीम्स की बॉल पर बोल्ड हो गईंऔर फिर दीप्ति शर्मा के साथ चौथे विकेट के लिये 137 रन की साझेदारी की। दीप्ति के नाम पर ही भारत की तरफ से वनडे में सर्वाधिक स्कोर का रिकार्ड है।
आस्ट्रेलिया के सामने बड़े लक्ष्य का दबाव था और इसका असर शुरू में ही उसकी बल्लेबाजों पर दिखा।  भारतीयों की कसी हुई गेंदबाजी के सामने उसने आठवें ओवर तक बेथ मूनी (एक), कप्तान मेग लैनिंग (शून्य) और निकोल बोल्टन (14) के विकेट गंवा दिये जिससे उसका स्कोर तीन विकेट पर 21 रन हो गया। भारत की तरफ से दीप्ति शर्मा 59 रन देकर तीन जबकि झूलन गोस्वामी और शिखा पांडे ने दो-दो विकेट लिये।  आस्ट्रेलिया की लक्ष्य तक पहुंचने की उम्मीदें भी समाप्त हो गयी। उसने बीच में इन दोनों के अलावा 28 रन के अंदर कुल पांच विकेट गंवाये. ब्लैकवेल ने हालांकि हार नहीं मानी और कुछ करारे शाट जमाये।  लेकिन वह शतक पूरा नहीं कर पायी। उन्होंने अपनी पारी में दस चौके और तीन छक्के लगाये.
भारत अब  फाइनल में इंग्लैंड के साथ खेलेंगे। इंग्लैंड की टीम ने पहले सेमीफाइनल मैच में साउथ अफ्रीका को हराकर पहले ही फाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली है। अब हर एक हिंदुस्तानी की उम्मीद है की भारती महिला विश्वकप  भारत जीते।