भारत के पास 'निर्भय' ताकत ,1000 किमी तक मारक क्षमता 

 07 Nov 2017  205
  ब्यूरो रिपोर्ट / in24 न्यूज़

भारत की पहली स्वदेश निर्मित परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम क्रूज मिसाइल 'निर्भय' का मंगलवार को चांदीपुर के परीक्षण रेंज से सफल परीक्षण किया गया। आपको बता दे कि इसकी मारक क्षमता एक हजार किमी से अधिक है औरमिसाइल 300 किलोग्राम परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम है।इसका परीक्षण आगामी तीन दिन तक चलेगा और इसका आखिरी परीक्षण नौ नवंबर को किया जाएगा।रक्षा सूत्रों के मुताबिक, निर्भय सभी मौसम में काम करने वाली क्रूज मिसाइल है और इसे टेक ऑफ के लिए ठोस रॉकेट बूस्टर से संचालित किया जाता है।

इस बूस्टर की वजह से इसमें बीच आसमान में ही मंडराने की क्षमता है, जिससे यह हवा में कई कलाबाज़ी भी कर सकता है। निर्भय मिसाइल काफी नीची ऊंचाई पर उड़ने में भी सक्षम है, जिससे यह दुश्मन के रडार से छिपकर उसके ठिकानों पर निशाना साध सकता है। मिसाइल के सटीक निशाने के लिए इसमें बेहद उच्च स्तरीय नेवीगेशन सिस्टम लगा है और रक्षा वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि यह मिसाइल ब्रह्मोस की कमी को पूरा कर सकती है, क्योंकि उसकी मारक सीमा 290 किलोमीटर है, जबकि यह 1000 किलोमीटर तक मार सकती है। 

आपको बता दे कि वैज्ञानिकों को इस मिसाइल के टेस्ट में पांचवी बार में सफलता मिली जबकि इससे पहले निर्भय की पहली परीक्षण उड़ान 12 मार्च, 2013 को सुरक्षा कारणों से बीच रास्ते में ही रोकनी पड़ी क्योंकि उस समय एक घटक में गड़बड़ी सामने आई थी लेकिन उसके बाद 17 अक्तूबर, 2014 को दूसरी उड़ान सफल रही थी। इसके बाद अगला परीक्षण 16 अक्तूबर, 2015 को किया गया, जिसे इसकी उड़ान के 700 सैकंड बाद रोकना पड़ा। उसके बाद मिसाइल का चौथा परिक्षण 21 दिसंबर 2016 को ओडिशा के बालासोर में किया गया और उस समय भी यह निर्धारित रास्ते से भटक गई थी। Read Technology News in Hindi.