अमेरिका में भारतीयों पर हमले बर्दाश्त नहीं : जो बाइडेन

 17 Feb 2024  653

संवाददाता/ in24 न्यूज़.  
अमेरिका में रह रहे भारतीयों पर हमले के मामले बढ़ गए हैं। इस पर अमेरिकी सरकार ने चिंता जताई है। व्हाइट हाउस ने कहा है कि अमेरिका में नस्ल, लिंग या किसी भी आधार पर हिंसा अस्वीकार्य है। अमरीकी नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और उनका प्रशासन इन हमलों को रोकने की पूरी कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा कि खुद राष्ट्रपति बाइडेन भी परेशान हैं और किसी भी भेदभाव के आधार पर भारतीयों पर हमला बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। किर्बी ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के शासन में हिंसा की कोई जगह नहीं है। उन्होंने कहा कि नस्ल या लिंग या धर्म या किसी अन्य कारक पर आधारित किसी तरह की हिंसा के लिए कोई बहाना नहीं चल सकता है। यह संयुक्त राज्य अमेरिका में बिल्कुल अस्वीकार्य है। किर्बी का यह बयान तब आया है, जब वाशिंगटन में प्रेस ब्रीफिंग के दौरान संवाददाताओं ने उनसे भारतीय छात्रों पर हो रहे लगातार और सिलसिलेवार हमलों के बारे में पूछा। इस पर उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति बाइडेन और उनका प्रशासन भारतीय और भारतीय अमेरिकी छात्रों पर हमलों को विफल करने और बाधित करने की कोशिशों में जुटा है। बता दें कि अमेरिका में महीने भर के अंदर चार भारतीय छात्रों और तीन भारतीय मूल के लोगों की हत्या हो चुकी है। एक अन्य भारतीय छात्र पर भी हमला हुआ है।  वहीं, विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भी इस बात पर विशेष जोर दिया कि उनकी सरकार विदेश में रह रहे भारतीय विद्यार्थियों की सुरक्षा को लेकर प्रतिबद्ध है। नवंबर, 2023 की ओपन डोर्स रिपोर्ट के मुताबिक, यूएस में कुल विद्यार्थियों में से 25 फीसदी भारतीय मूल के विद्यार्थी हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका जाकर उच्च शिक्षा ग्रहण करने वाले भारतीय विद्यार्थियों की संख्या में 35 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली है। शैक्षणिक वर्ष 2022-23 में 2,68,923 छात्रों की अब तक की सबसे अधिक संख्या हुई। पिछले साल, भारत में अमेरिकी वाणिज्य दूतावास ने दुनिया के किसी भी अन्य देश की तुलना में 140,000 से अधिक छात्र वीजा जारी किए और लगातार तीसरे वर्ष एक रिकॉर्ड स्थापित किया। बता दें कि भारत और अमेरिका के बीच पहले की अपेक्षा दोस्ती और मजबूत हुई है।