17 साल के वैज्ञानिक ने ढूंढा पृथ्वी से सात गुणा बड़ा ग्रह

 13 Jan 2020  464

संवाददाता/in24 न्यूज़.
एक मशहूर कहावत है कि पूत के पांव लालने में ही दिख जाते हैं क्योंकि अमेरिका के एक 17 वर्षीय छात्र ने एक ऐसे ग्रह की खोज की है जो पृथ्वी से सात गुना बड़ा है. गौरतलब है कि अमेरिका के 17 वर्षीय हाई स्कूल छात्र ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में वो कारनामा कर दिखाया है, जिसे करने के लिए बड़े-बड़े वैज्ञानिक भी अपनी पूरी जिंदगी लगा देते हैं. मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक वॉल्फ कुकिर ने इंटर्नशिप के तीसरे दिन एक नया ग्रह खोजकर सभी को चौंका दिया था. न्यूयॉर्क के 17 वर्षीय वोल्फ कुकर ने पिछली गर्मियों में नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर में इंटर्नशिप की थी. इस खोज को उन्होंने तब अंजाम दिया जब वो ट्रांसिटिंग एक्सोप्लेनेट सर्वे सैटेलाइट के आकड़ों का आंकलन कर रहे थे. स्केयर्सडेल है स्कूल के सीनियर स्टूडेंट ट्रांसिटिंग एक्सोप्लेनेट सर्वे सैटेलाइट की मदद से वॉल्फ ने टीओआई 1338 नाम के नए बाइनरी स्टार सिस्टम को खोजा. रिपोर्ट के मुताबिक ये ग्रह धरती से 1300 प्रकाश वर्ष दूर है, जो कि एक तारामंडल में मौजूद है. ये ग्रह सूर्य के करीब है. साथ ही इसका आकार सूर्य से 15 प्रतिशत बड़ा है. इसी के साथ यह ग्रह पृथ्वी से सात गुना बड़ा है. इसकी एक और खास बात यह है कि यह दो सितारों की परिक्रमा करता है. जिनमें से एक हमारे सूर्य से 10 प्रतिशत बड़ा है. जबकि दूसरा काफी छोटा और कम चमकीला है.