पीएम मोदी की जम्मू-कश्मीर सर्वदलीय बैठक से पाकिस्तान के पेट में दर्द

 20 Jun 2021  177

संवाददाता/in24 न्यूज़.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ भी कहते हैं या करते है, उसपर पाकिस्तान आंखें फाड़कर गिद्धनज़र लगाए रहता है। पाकिस्तान ने शनिवार को कहा कि वह कश्मीर के विभाजन और उसकी जनसांख्यिकी बदलने के भारत के किसी भी कदम का विरोध करेगा। पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने एक बयान में कहा कि विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा है कि भारत को पांच अगस्त 2019 की कार्रवाई के बाद कश्मीर में कोई और अवैध कदम उठाने से बचना चाहिए। पाकिस्तान का यह बयान ऐसे वक्त में आया है जब केंद्र सरकार ने जम्मू कश्मीर के 14 नेताओं को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली एक उच्च स्तरीय बैठक में शामिल होने का न्योता दिया है। माना जा रहा है कि इस बैठक में केन्द्र शासित प्रदेश में विधानसभा चुनाव कराने का खाका तैयार किया जाएगा। कुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान ने भारत के 5 अगस्त 2019 के कदम का पूरी तरह से विरोध किया है और इस मामले को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद सहित सभी अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाया है। उन्होंने कहा कि भारत के ऐसे किसी भी कदम का विरोध करने का पाकिस्तान प्रण लेता है जो क्षेत्र की जनसांख्यिकी को बदलने के लिए जम्मू कश्मीर को विभाजित करने वाले हो। कुरैशी ने कहा कि उन्होंने सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष और संयुक्त राष्ट्र महासचिव को भारत के संभावित कदम से अवगत करा दिया है। वहीं, भारतीय जनता पार्टी ने शनिवार को कहा कि उसे विश्वास है कि केंद्र शासित प्रदेश के लिए भविष्य की कार्यवाही पर चर्चा करने के लिए आमंत्रित जम्मू-कश्मीर के सभी नेता ‘‘महत्वपूर्ण’’ विचार-विमर्श में भाग लेंगे। यह बैठक दिल्ली में प्रधानमंत्री के साथ होगी। आमंत्रित लोगों में शामिल भाजपा की जम्मू-कश्मीर इकाई के अध्यक्ष रविंदर रैना ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा बुलाई गई बैठक विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रमुखों की इच्छा के अनुसार है, जो उनसे समय मांग रहे थे और लंबे समय से इस तरह की बैठक की मांग कर रहे थे। पीएम मोदी की अध्यक्षता में 24 जून को नई दिल्ली में होने वाली बैठक के लिए पूर्ववर्ती राज्य के चार पूर्व मुख्यमंत्रियों सहित जम्मू कश्मीर के 14 नेताओं को आमंत्रित किया गया है। इस बैठक में केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह और अन्य केंद्रीय नेताओं के भी शामिल होने की संभावना है। जाहिर है जम्मू-कश्मीर की गतिविधियों से पकिस्तान के पेट में दर्द फिर से शुरू हो गया है।