अमेरिकी अदालत ने ट्रंप कार्यकाल के एच-1बी वीजा नियमों में बदलाव को किया रद्द

 18 Sep 2021  213

संवाददाता/in24 न्यूज़.
भारतीय छात्रों के लिए अमेरिका से बड़ी खबर आई है। एक अमेरिकी संघीय न्यायाधीश ने बुधवार को ट्रम्प-युग के एच-1बी वीजा नियमों में बदलाव को ठुकरा दिया, जो अमेरिकी कंपनियों को सस्ते विदेशी श्रम के साथ अमेरिकी श्रमिकों को बदलने से रोकने के लिए थे। अदालत के इस फैसले से भारत समेत कई देशों के छात्रों को बड़ी राहत मिलेगी। अदालत के इस फैसले से अमेरिका में नौकरी की तलाश कर रहे भारतीय छात्रों को फायदा मिलेगा। इस फैसले से अब फ्रेश ग्रेजुएट्स को नौकरी पाने में आसानी होगी। बता दें कि ट्रंप के कार्यकाल में एच-1बी वीजा नियमों में किए गए बदलाव के तहत छात्रों के चयन प्रक्रिया को लॉटरी ड्रा से बदलकर केवल उच्च-भुगतान वाली नौकरियों के लिए कर दी गई थी जिसके बाद इसके खिलाफ विरोध शुरू हो गया था और अदालत में इस फैसले को चुनौती दे दी गई थी। इसके अलावा विश्वविद्यालयों ने भी नियम में बदलाव का विरोध किया था। विश्वविद्यालयों ने कहा था कि यदि नया नियम लागू किया जाता है, तो संभवतः विदेशी छात्रों को अमेरिका आने से सीमित कर दिया जाएगा। इतना ही नहीं नियम परिवर्तन को यूएस चैंबर ऑफ कॉमर्स द्वारा भी अदालत में चुनौती दे दी गई थी ,जिसके कारण संघीय अदालत ने नियम के कार्यान्वयन पर स्थगन आदेश जारी कर दिया था। याचिकाकर्ताओं ने अदालत में तर्क देते हुए कहा था कि नए नियम आव्रजन और राष्ट्रीयता अधिनियम का उल्लंघन करते हैं। यह भी तर्क दिया गया कि नियम में बदलाव के परिणामस्वरूप कम छात्र अमेरिकी विश्वविद्यालयों में आवेदन करेंगे क्योंकि पाठ्यक्रम पूरा करने पर उन्हें नौकरी पाने की संभावना न के बराबर रहेगी। बहरहाल इस फैसले से भारतीय छात्रों को बड़ी राहत मिल सकती है।