पाकिस्तान में मंदिर टूटने से मचा हड़कंप

 03 Jan 2021  1153

संवाददाता/in24 न्यूज़.  
पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के साथ लगातार अत्याचार होता रहा है. अब एक मंदिर के टूटने का मामला सामने आया है जिससे हड़कंप मच गया है. पाकिस्तान में पुलिस ने खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में एक कट्टरपंथी इस्लामी पार्टी के सदस्यों के नेतृत्व में भीड़ द्वारा एक हिंदू मंदिर के विध्वंस में शामिल होने के आरोप में 45 और लोगों को गिरफ्तार किया है. इस मामले अबतक 100 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. खैबर पख्तूनख्वा के करक जिले में टेरी गांव में मंदिर के नाम पर 350 से अधिक लोगों को एफआईआर में नामजद किया गया है और बुधवार को भीड़ द्वारा विरोध प्रदर्शन किया गया.गिरफ्तार लोगों को एंटी टेरेरिस्ट कोर्ट (एटीसी) में पेश किया गया, जहां पुलिस ने आरोपियों का तीन दिन के रिमांड पर भेज दिया. मंदिर, जिसमें एक हिंदू धार्मिक नेता की समाधि भी है, उस पर भीड़ द्वारा हमला किया गया था क्योंकि हिंदू समुदाय के सदस्यों को स्थानीय अधिकारियों से दशकों पुरानी इमारत के नवीनीकरण की अनुमति मिली थी. कुछ स्थानीय मौलवियों और जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम पार्टी (फजल उर रहमान समूह) के समर्थकों की अगुवाई में भीड़ ने पुराने ढांचे के साथ-साथ नए निर्माण कार्य को ध्वस्त कर दिया. मंदिर पर हमले ने मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के नेताओं की कड़ी निंदा की. भारत ने पाकिस्तान के साथ मंदिर के बर्बरता पर भी विरोध दर्ज कराया है और इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है. नई दिल्ली के सूत्रों ने बताया कि इस विरोध को राजनयिक चैनलों के माध्यम से पाकिस्तान को अवगत कराया गया था. खैबर-पख्तूनख्वा (के-पी) के मुख्यमंत्री महमूद खान ने आश्वासन दिया है कि उनकी सरकार कम से कम समय में क्षतिग्रस्त मंदिर और समाधि का पुनर्निर्माण करेगी. मुख्यमंत्री सचिवालय द्वारा शनिवार देर रात जारी अधिसूचना के अनुसार, खैबर-पख्तूनख्वा सरकार ने मंदिर के कारण हुए नुकसान का आकलन करने और हिंदू समुदाय के परामर्श से अपनी पुनर्निर्माण योजना विकसित करने के लिए चार सदस्यीय समिति का गठन किया है. समिति को 10 दिनों में काम पूरा करने के लिए कहा गया है. पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने भी स्थानीय अधिकारियों को 5 जनवरी को पेश होने का आदेश दिया है. अदालत ने एक सदस्यीय आयोग को अल्पसंख्यक अधिकार, केपी मुख्य सचिव और केपी पुलिस महानिरीक्षक को निर्देश जारी किया है कि वे साइट पर जाएं और 4 जनवरी को एक रिपोर्ट प्रस्तुत करें. हिंदू पाकिस्तान में सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय बनाते हैं. आधिकारिक अनुमानों के अनुसार, पाकिस्तान में 75 लाख हिंदू रहते हैं. हालांकि, समुदाय के अनुसार, देश में 90 लाख से अधिक हिंदू रह रहे हैं. पाकिस्तान की बहुसंख्यक हिंदू आबादी सिंध प्रांत में बसी हुई है जहां वे मुस्लिम निवासियों के साथ संस्कृति, परम्पराएं और भाषा साझा करते हैं. वे अक्सर चरमपंथियों द्वारा उत्पीड़न की शिकायत करते हैं. मगर पाकिस्तान आज भी हिंदुओं के साथ भेदभाव के अपने स्वभाव पर कायम नज़र आता है क्योंकि उसकी हरकतें हैं ही ऐसी.