65 साल के हुए निर्माता बोनी कपूर

 11 Nov 2020  31

संवाददाता/in24 न्यूज़.
आज बोनी कपूर अपना बोनी कपूर का 65वां जन्मदिन मन रहे हैं. बोनी कपूर मिस्टर इंडिया, जुदाई, और नो एंट्री जैसे सुपरहिट फिल्मों का हिस्सा रहे हैं और उन्हें कई पुरुस्कारों से भी सम्मानित किया जा चुका है। बोनी कपूर फिल्म निर्माता सुरिंदर कपूर के बेटे हैं. बोनी कपूर हमेशा से ही बड़े बजट की ब्लॉकबस्टर फिल्म बनाने वाला फिल्म निर्माता बनना चाहते थे। मिस्टर इंडिया फिल्म बनाने की योजना उन्होंने यही सोचकर बनाई थी। इस‍ फिल्म के पूर्व वे कुछ फिल्म बना चुके थे। मिस्टर इंडिया के लिए वे तब उस दौर की टॉप हीरोइन श्रीदेवी को साइन करना चाहते थे ताकि फिल्म का लेवल बहुत ऊंचा हो जाए। श्रीदेवी को किसी फिल्म के लिए साइन करना इतना आसान नहीं था, क्योंकि वे कई बातों पर विचार कर ही फिल्म साइन करती थीं। बोनी अपनी फिल्म में श्रीदेवी को साइन करने के लिए उनके घर पहुंचे, लेकिन श्रीदेवी की ओर से उन्हें समय नहीं दिया गया। जब बोनी ने बहुत ज्यादा निवेदन किया तो सात दिनों के बाद का समय दिया गया। बोनी कपूर समझ गए कि उन्हें टाला जा रहा है, इसलिए उन्होंने चेन्नई में ही रुकने का फैसला किया। इस दौरान वे रोजाना श्रीदेवी के घर के चक्कर लगाया करते थे ताकि श्रीदेवी उन्हें दिख जाएं और वे उनसे अपनी बात कह सके। बोनी ने श्रीदेवी के घर के कई चक्कर लगाए और श्रीदेवी को मनाने में सफल रहे।इसके बाद फिल्म 'मिस्टर इंडिया' बनी और फिल्म ने ऐतिहासिक सफलता हासिल की। इसके बाद बोनी ने श्रीदेवी को लेकर अपनी एक और फिल्म 'रूप की रानी चोरों का राजा' बनाई, जो असफल रही। उदारदिल निर्माता बोनी श्रीदेवी के हर नखरे को हंसते-हंसते उठाते रहते थे। शायद इसी कारण दोनों के बीच दोस्ताना संबंध हो गए। उस समय श्रीदेवी किसी पर भी आसानी से विश्वास नहीं करती थी, लेकिन बोनी पर उनका विश्वास जम गया। बोनी कपूर भाई अनिल कपूर और श्रीदेवी को लेकर जुदाई नामक फिल्म बना रहे थे। उसी दौरान श्रीदेवी की मां राजेश्वरी की तबियत खराब हो गई। उन्हें इलाज के लिए अमेरिका ले जाया गया। श्रीदेवी ने ऐसे समय बोनी कपूर को साथ ले जाना पसंद किया। मां के इलाज के दौरान पूरे समय बोनी कपूर श्रीदेवी के साथ एक पारिवारिक मित्र के साथ खड़े रहे। श्रीदेवी की मां की गलत इलाज के कारण मृत्यु हो गई। बोनी कपूर ने अस्पताल पर मुकदमा कर और लंबी लड़ाई लड़कर हर्जाना वसूल किया। इस दौरान अपने प्रति बोनी कपूर की नि:स्वार्थ भावना देख श्रीदेवी दिल में बोनी के लिए जगह बन गई और यह जानते हुए भी कि बोनी शादीशुदा हैं, श्रीदेवी बोनी कपूर को दिल दे बैठीं। इसके बाद बोनी ने कुछ भी परवाह किये बिना श्रीदेवी से 1996 में शादी कर ली। हालांकि शादी के बाद बोनी कपूर को परिवार वालों की नाराजगी का सामना भी करना पड़ा था। श्रीदेवी से शादी करने से पहले बोनी कपूर बेहद अव्यवस्थित जीवन जीते थे और उन पर कर्ज भी था। जब श्रीदेवी ने बोनी की लाइफ में एंट्री की तो उन्होंने बोनी को व्यवस्थित तरीके से जीना सिखाया। हैरान-परेशान रहने वाले बोनी सुकून के साथ जीना सीख गए। इसके बाद बोनी और श्रीदेवी के घर 1997 में एक बच्ची का जन्म हुआ, जिसका नाम उन्होंने जान्हवी कपूर रखा और फिर 2000 में श्रीदेवी और बोनी के घर एक और लक्ष्मी आई, जिसका नाम खुशी कपूर है। बता दें कि बोनी की पहली पत्नी मोना कपूर से बेटे अर्जुन कपूर हैं. बहरहाल, हम भी बोनी कपूर को आज यही कहेंगे हैप्पी बर्थडे!