भारत-रूस की दोस्ती में दरार

 29 Mar 2018  145

संवाददाता/in24 न्यूज़

भारत और रूस के बीच अब दोस्ती में दरार पड़ती नज़र आ रही है क्योंकि बीते कुछ वर्षों में चीन और पाकिस्तान से रूस  नज़दीकियां बढ़ा रहा है। भारत का अच्छा दोस्त रहा रूस अब दूरियां बना रहा है और अगले कुछ साल में भारत और रूस की दोस्ती की अग्निपरीक्षा होगी। सूत्रों के अनुसार इसका कारण बताया जा रहा है रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और चीन के राष्ट्रपति शी जिन पिंग का लगातार सत्ता में बने रहना जो तानाशाही दर्शाता है.

बीते कुछ वर्षों में भारत ने भी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी राजनीति बदली है और यही कारण है रूस से दूरियां पैदा होने की। वहीं दूसरी ओर रूस भी जहां कश्मीर के मसले पर आने वाले प्रस्तावों पर वीटो लगाया करता था अब वो पाकिस्तान के समर्थन में खड़ा नज़र आ रहा है। इसका जीता जागता उदहारण है पिछले वर्ष दिसंबर में हुई इस्लामाबाद में छह देशों के स्पीकर का सम्मेलन, जिसमें रूस ने कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान का समर्थन किया। 

 इसमें रूस की ओर से कहा गया था कि, "वैश्व‍िक एवं क्षेत्रीय शांति एवं स्थ‍िरता के लिए भारत और पाकिस्तान को जम्मू-कश्मीर मसले का संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के मुताबिक शांतिपूर्ण समाधान करना चाहिए।" एक तरफ जहां पाकिस्तान और चीन के गठजोड़ से भारत को दोनों मोर्चे पर चुनौती मिल रही थी लेकिन अब रूस से दूरियां इस बात का संकेत देते हैं कि एशिया महाद्वीप में अब भारत अलग थलग पड़ जाएगा यदि रूस चीन पाकिस्तान का त्रिकोण एक हो जाए तो।