महाराष्ट्र की बेटी ने पावर लिफ्टिंग में रचा नया कीर्तिमान

 29 Jun 2022  79

पावर लिफ्टिंग सबसे ताकतवर खेल है इस खेल के लिए शारीरिक मानसिक रूप से तैयार होना बहुत ही जरूरी होता है इस खेल में तीन लिफ्टिंग होती है जिसके बदौलत खिलाड़ी अपना करतब दिखाते हैं. आपको बता दें कि पावर लिफ्टिंग के लिए आपकी फिटनेस के साथ-साथ आपको मानसिक रूप से तैयार होना बहुत जरूरी होता है, हाल ही में उत्तर प्रदेश पावर लिफ्टिंग एसोसिएशन द्वारा 23वाँ राष्ट्रीय सब जूनियर पावर लिफ्टिंग और नेशनल बैंक प्रेस चैंपियनशिप का आयोजन किया गया जिसमें देश के सभी प्रदेशों के पावर लिफ्टर खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया,वही बात करें महाराष्ट्र की तो महाराष्ट्र पावरलिफ्टिंग टीम की महिला खिलाड़ियों ने इस चैंपियनशिप प्रतिस्पर्धा में प्रदेश का नाम रोशन किया है इस चैंपियनशिप प्रतिस्पर्धा में महिला चैंपियनशिप महाराष्ट्र के नाम करने वाली मारिया पटेल ने 4 गोल्ड मेडल और दो चैंपियनशिप ट्रॉफी जीतकर प्रतिस्पर्धा में सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया है महाराष्ट्र पावर लिफ्टिंग टीम टू जनरल ट्रॉफी के साथ-साथ टोटल 12 मेडल जीते हैं.
 वैसे तो मारिया पटेल ने अब तक राज्य,राष्ट्रीय स्तर पर खेले गये पावर लिफ्टिंग में कई सारे मेडल ओर ट्रॉफीया जीती हैं और लगातार मारिया पटेल की कोशिश है कि वह अपने खेल में राज्य के साथ-साथ देश का नाम भी रोशन करें ,मारिया का सपना है कि ओलंपिक में मेडल जीतकर महाराष्ट्र को एक नई पहचान दें, मारिया के इस सफलता के पीछे उनके परिवार मे उनकी maa तथा उनके पिता श्री मुसिफ्ल ,भाई. बहन  और सभी परिवार जन और दोस्तों, गुरू दरेकर सर का बहुत बड़ा सहयोग है, मारिया को इस मंजिल तक पहुंचाने में मुंबई पुलिस ऑफिसर सुशील जाधव की अहम भूमिका है सुशील जाधव सर भी बचपन से खेल के क्षेत्र में अग्रसर है और विभिन्न खेलों मे राष्ट्रीय स्तर खेल चुके हैं. सुमो रेसलिग जैसे खेल  मे  भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेल चुकी हैं और आज भी वो खिलाड़ियों के प्रोत्साहन के लिए समय-समय पर खेल से जुड़े तमाम उपक्रमों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते हैं उनका सामाजिक क्षेत्र का काम भी सराहनीय हैं,कहते हैं महिलाएं आज हर क्षेत्र में आगे हैं ऐसे में बात करें मारिया पटेल की तो शुरुआती दिनों में मारिया पटेल को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा समाज के उन लोगों की बातों को सहना पड़ा जो यह कहते थे कि मारिया एक  लड़की है और उसके बावजूद वह पावरलिफ्टिंग गेम कैसे खेल रही है लेकिन उन सभी की परवाह न करते हुए मारिया पटेल ने अपने लक्ष्य की तरफ अग्रसर रही और यही वजह है कि मारिया ने आज राष्ट्रीय स्तर पर  महाराष्ट्र का नाम उत्तर प्रदेश में जाकर रोशन किया है। साथी साथ अपने परिवार का ओर कम्युनिटी का भी नाम रोशन कर दिया  हैं. आओ हम सभी महाराष्ट्र वासी राष्ट्रीय खिलाडी मारिया पटेल को उनके ऑलिंपिक सपने को साकार करने मे सहयोग करें,उनको शुभकामनाएं दें.