पत्थर तोड़कर परिवार को पालने के लिए मजबूर हुआ क्रिकेटर

 29 Jul 2020  21

संवाददाता/in24 न्यूज़.
विश्वव्यापी महामारी कोरोना ने दुनिया का सुख छीन लिया है. इसका असर बहुत गहरा हुआ है. भारतीय वीलचेयर क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और उत्तराखंड के मौजूदा कप्तान राजेंद्र सिंह धामी इन दिनों पत्थर तोड़कर अपने परिवार की आजीविका जुटाने को मजबूर हैं। धामी पिथौरागढ़ जिले में स्थित अपने गांव रायकोट में मनरेगा योजना के तहत सड़क निर्माण में मजदूरी कर रहे हैं। जानकारी के मुताबिक, राजेंद्र जिन बच्‍चों को कोचिंग दे रहे थे, वह पिछले कुछ समय से नहीं आ रहे हैं । इन बच्‍चों के अभिभावकों का कहना है कि उनके पास पैसे नहीं है। धामी जब तीन साल के थे तब उन्‍हें पैरालिसिस हुआ और उनका 90 प्रतिशत शरीर दिव्‍यांग हो गया। राजेंद्र सिंह धामी ने क्रिकेट के मैदान पर शानदार प्रदर्शन के लिए कई अवॉर्ड्स जीते। कहते हैं न कि जब वक़्त बुरा होता है तब न चाहते हुए भी वो करना पड़ता है जिसकी कल्पना तक नहीं की जाती!