टीम इंडिया के खिलाफ 369 रन पर ऑस्‍ट्रेलिया हर बार रही भारी

 16 Jan 2021  375

संवाददाता/in24 न्यूज़.
टीम इंडिया और ऑस्‍ट्रेलिया के बीच ब्रिस्‍बेन में चौथा व आखिरी टेस्‍ट मैच खेला जा रहा है। इस मैच का रोमांच अभी जारी है। टीम इंडिया ने अपने गैरअनुभवी गेंदबाजी आक्रमण के सहारे शनिवार को ऑस्‍ट्रेलिया की पहली पारी 369 रन पर समेटी। मेजबान टीम की तरफ से मार्नस लाबुशेन (108) और कप्‍तान टिम पेन (50) ने उम्‍दा पारी खेली। वहीं भारत की तरफ से डेब्‍यू करने वाले टी नटराजन और वॉशिंगटन सुंदर ने तीन-तीन विकेट झटके। इस मैच के नतीजे का फैंस को बेसब्री से इंतजार है क्‍योंकि टीम इंडिया चोटिल खिलाड़‍ियों से जूझ रही है। इस बीच रोचक आंकड़ा भी सामने निकलकर आया है, जिसके बाद यह जानने बेकरारी बढ़ गई है कि क्‍या टीम इंडिया इतिहास रच पाएगी? दरअसल, टीम इंडिया ने टेस्‍ट क्रिकेट इतिहास में चौथी बार ऑस्‍ट्रेलिया को 369 रन पर ऑलआउट किया है। यह एकमात्र स्‍कोर है, जो भारत और ऑस्‍ट्रेलिया के बीच टेस्‍ट क्रिकेट में दो से ज्‍यादा बार रिपीट हुआ है। इसके अलावा कोई स्‍कोर ऐसा नहीं है, जो दो से ज्‍यादा बार दोहराया गया हो। चलिए आज आपको बताते हैं कि कब भारत ने ऑस्‍ट्रेलिया को 369 रन पर ऑलआउट किया और फिर उन मैचों का परिणाम क्‍या रहा। इस हिसाब से देखा जाए तो क्‍या अजिंक्‍य रहाणे के नेतृत्‍व वाली भारतीय टीम गाबा में इतिहास पलटने में कामयाब होगी, जहां ऑस्‍ट्रेलिया पिछले 30 से ज्‍यादा सालों से टेस्‍ट मैच नहीं हारी है। टीम इंडिया ने जब-जब ऑस्‍ट्रेलिया को 369 रन पर ऑलआउट किया है तो कंगारू टीम का पलड़ा भारी रहा। आज से पहले तीन बार ऑस्‍ट्रेलियाई पारी भारत के सामने 369 रन पर ऑलआउट हुई, जिसमें से दो बार वह मैच जीतने में कामयाब रही। चेन्‍नई में टीम इंडिया मुकाबला ड्रॉ कराने में कामयाब हुई थी। अब भारत ने शनिवार को फिर ऑस्‍ट्रेलिया को 369 रन पर ऑलआउट किया है। देखना होगा कि अजिंक्‍य रहाणे के नेतृत्‍व वाली भारतीय टीम अपना करिश्‍मा दिखाते हुए क्‍या ऑस्‍ट्रेलिया को मात देकर इस स्‍कोर व आंकड़ें के नतीजे को पलटने में कामयाब होगी? बता दें कि चार टेस्ट मैचों की सीरीज में इस समय भारत और ऑस्‍ट्रेलिया 1-1 की बराबरी पर खड़े हैं। एडिलेड में पहला टेस्‍ट ऑस्‍ट्रेलिया ने 8 विकेट से जीता, जबकि मेलबर्न में भारत ने 8 विकेट से जीत दर्ज की। सिडनी में खेला गया तीसरा टेस्‍ट बेनतीजा रहा। इस बीच टीम इंडिया के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह खड़ी हो गई कि अनेक क्रिकेटर चोटिल हो गए थे.